बड़ी ऊ की मात्रा वाले शब्द इन हिंदी | Badi U Ki Wale Shabd in Hindi | Words Starting With ऊ

बड़ी ऊ की मात्रा वाले शब्द इन हिंदी | Badi U Ki Wale Shabd in Hindi | Words Starting With ऊ | नमस्कार दोस्तों, आज के इस लेख में हम बड़ी ‘ऊ’ की मात्रा वाले शब्द के बारे में जानेंगे। वैसे तो बच्चों को छोटी कक्षा से ही मात्राओं का ज्ञान देना शुरू कर दिया जाता है। लेकिन कुछ बच्चे ऐसे होते हैं जिन्हें मात्राओं के बारे में पूरी जानकारी नहीं होती है ओर अंत में होता यह है कि उनके अंक कम आते हैं। तो आज हम आपको इस पोस्ट में बड़ी ‘ऊ’ की मात्रा वाले शब्द के साथ साथ में मात्राओं के बारे में एक बहुत ही बढ़िया ओर महत्वपूर्ण जानकारी बताएँगे। यह जानकारी आपके लिए जानना बहुत ही ज़रूरी है और यह जानकारी आपको बहुत काम आएँगी।

बड़ी ऊ की मात्रा वाले शब्द इन हिंदी | Badi U Ki Wale Shabd in Hindi | Words Starting With ऊ
बड़ी ऊ की मात्रा वाले शब्द इन हिंदी | Badi U Ki Wale Shabd in Hindi | Words Starting With ऊ

 स्वरों का प्रयोग दो प्रकार से किया जाता है

उनके मूल रूप में जैसे 

 व्यंजन के साथ मिलकर जैसे

व्यंजनों में जब तक स्वर नहीं मिला होता है तब तक उसके नीचे हलत् का चिन्ह लगा होता है। व्यंजन के साथ मिला स्वर का बदला रूप ही मात्रा कहलाता है। “स्वर के चिन्हों को मात्राएँ कहते हैं ” स्वर अपने मूल रूप में व्यंजनों के साथ जुड़कर भी शब्द बनातीं है।

मात्रा एक ऐसा विषय है जो हिंदी लेखन के लिए बहुत ज़रूरी होता है। मात्रा स्वर का ही एक रूप होता है इन मात्राओं की संख्या ११ होती है।लेकिन दूसरे रूप में देखें तो यह संख्या १० है ऐसा इसलिए क्योंकि अ स्वर की कोई मात्रा नहीं होती हैं। हिंदी में शब्दों की रचना से लेकर पदों की रचना तक हिंदी मात्रा का इस्तेमाल किया जाता है। वैसे कुछ बिना मात्रा वाले शब्द हों सकते हैं लेकिन सभी शब्द बिना मात्रा के नहीं हो सकते हैं। हिंदी प्रभावशाली भाषा के लेखन के लिए हिंदी मात्रा बहुत ज़रूरी है और इसके लिए मात्रा का ज्ञान होना भी बहोत ही ज़रूरी है।

ओर जैसा कि हम सभी जानते हैं कि हिंदी एक ऐसी भाषा है जिसमें किसी भी अक्षर या वर्ण के चारों तरफ़ मात्राएँ लगती है। ऐसे में किसी वर्ण के पहले मात्रा लगती है उसे छोटी मात्रा कहते हैं।वर्ण के पीछे मात्रा लगती है उसे बड़ी मात्रा कहते हैं। कुछ वर्ण के ऊपर मात्रा लगती है उसे उपली मात्रा कहते हैं। कुछ वर्ण के नीचे मात्रा लगती है उसे नीचली मात्रा कहते हैं और कुछ मात्राएँ ऐसी भी होती है जो वर्ण के बीच में लगतीं है। यही मात्रा का इस्तेमाल शब्दों के लिए किया जाता है। 

स्वर “ऊ” देवनगरी हिंदी वर्णमाला का छठा अक्षर एवं ध्वनि है। ऊ की मात्रा ू के रूप में होती है। वैसे तो यह छोटी उ की मात्रा जैसे ही होती हैं। लेकिन यह उससे उलटी होती हैं।

जो किसी भी अक्षरों के नीचे लगी हुई होती है। व्यंजन अक्षरों के बाद यदि यह मात्रा है तो वहाँ पर हम समझेंगे कि व्यंजन अक्षर के साथ शब्द की मात्रा जुड़ हुई है ऊ शब्द का अवसर मिला हुआ है वहाँ पर हम ऊ स्वर को व्यंजन की ध्वनि के साथ मिलाकर बोलेंगे जैसे कि :-

तो आइए देखते हैं ऐसे  बड़ी ‘ऊ’ की मात्रा वाले शब्द के बारे में विस्तार से।

दो अक्षर वाले  बड़ी ‘ऊ’ की मात्रा वाले शब्द 

बूथ दूबें 
बूंदी रूठी 
बूँदी रूई 
बूज़ रखूँ 
बहूँ कूद 
बजूँ कूड़ा 
बड़ू कूड़े 
बूरा कूपों 
बूरे कूर्म 
बूते कूकूँ 
बूट कूच 
बूथों कीनू 
हूँगा कहूँ 
हूगो कंदू
हूर क्रूज़ 
हरूँ कतूँ 
हूकों कूटू 
कूलतूने 
गूँगा कूक 
गूदा तूती 
गूदे कूट 
गूढ़ तूल 
गूफ़ी तंबू 
गूँथ चूहों 
ग्रूव चूहे 
गलूँ चूँगी 
दूहा चूड़ी 
दूहों चूर्ण 
दूँगा चूर 
दूँगी चूरा 
दहूँ चूँकि 
दगूँ चूका 
दूर चूमो 
दूत चूमा 
द्यूत चूना 
दून चूने 
दूनी दूध 
दलूँ चंदू 
द्यूतों चंपू 
जूही चरू
जून चकू 
जूते चमू 
जूरी चलूँ 
ज़ूम टूटी 
जूथ टू-गो 
जूठे टूर 
जनूँ टूक 
डूब टकूँ 
डूबी भूमि 
पूर्व भूना 
पीगू भूले 
पूजा भून 
पूड़ी भूसे 
पूरी भूखे 
पूरघूम 
प्रूफ़ घूर 
पकूँ धूप 
पचूँ धूम्र 
पटूँ झूठ 
पलूँ झूठी 
पथूँ झूंपा 
पोंछूँ झूट 
रूबी ढूँढ 
रूहों ठूँस 
रूद्र थूक 
रूजों छूटूँ 
रूपा सूत्रों 
रूपसूबे 
रूरा सूली 
रूके सूने 
रुचि सूनी
रूटों रचूँ 
रूमी रटूँ 
रूमरमूँ 
रूलरूँध 
रूसी रूँधी 
रहूँ रूखे 
रंगूँ रूखा 

तीन ओर चार बड़ी ऊ की मात्रा वाले शब्द 

यूरोप अँटूँगी 
यूरोपीय अमूमन 
सूबेदार अमूल 
यूक्रेन अनूप 
सूचना अनूदित 
यहूदी अभूत 
यहूदियों अधूरी 
संपूर्ण अधूरे 
संपूर्णता अछूता 
संपूर्णतः अछूते 
सूदन अशून्य 
सूजन इरूवर 
सूडानी आभूषण 
सूपड़ा आहूजा 
सूरत आहूत 
सूक्ष्म आड़ूँगी 
सूटकेस आपूर्ति 
सबूत आकूति 
सबूतों आकूतियों 
संदूषण आटूँगी 
संदूषित आमूल 
सड़ूँगी ऊबूँगी 
सड़ूँगाऊबड़ 
स्कूल चूहेदानी 
स्कूलों नाखून 
स्तूप तूफ़ानी 
स्तूपों ख़ूँख़ार 
स्टूडेंट तरबूज़ 
समूह मज़बूत 
समूचे मजबूरी 
समूचा ख़रबूज़ा 
स्नूकर मयूरी 
स्नूपिंग मयूरों 
सलूक क़ानून 
सलूकों अनूप 
संसूचक अनूदित 
सूफ़ीवाद अनूठा 
सूंघने अनूठी 
सूखना जादुई 
सूक्ष्म जुनून 
सूझबूझ शून्य 
लूज़र शूटिंग 
लूपिंग शूद्रकुल 
लंगूर शूरवीर 
लंगूरों शूरसेन 
लदूँगा शूकर 
लड़ूँगा शूकरों 
लूथर शूटर 
लूथरा शून्यता 
बूमरैंग हिन्दू 
बून्दी शहतूत 
बूस्टर चित्रकूट 
बूस्ट कचालू 
बबूल पूजनीय 
बबूला खजूर 
बहूँगा तराज़ू 
जादूगर सम्पूर्ण 
बंदूक़ बलूनों 
बंदूक़ें लूटपाट 
बजूँगी लूटकर 
बकूँगा कूड़ादान
बकूँगी धूमकेतु 
बचूँगा फूलगोभी 
बंटूँगी फूलदान
बनूँगा अमरूद 
चूरमा जूनागढ़ 
बसूँगी नलकूप
ब्यूटी मशहूर 
ब्यूरो ऊपर 
बख़ूबी ऊहापोह 
हूटिंग ऊपरी 
गूगल ऊतक
गूजर संपूर्ण 
गूंजतीपूर्वोत्तर 
कूटनीति रणभूमि 
गूलर देवदूत 
गूलरों तूफ़ान 
गंजूँगा तूरान 
गड़ूँगी चूल्हे 
गरूड़ चूल्हा 
गटकूँ बढ़ूँगी 
ग्लूकोज़ चूसते 
गूँथना चबूतरे 
दूसरी चबूतरा 
दूदाजी चंदूलाल 
दूदावत चंडूखाना 
दूल्हा चरूँगी 
दूल्हे चलूँगा 
दूसरे ट्यूमर 
दूभर ट्यूशन 
दूषित टूर्नामेंट 
दूषण टूल्स 
जूनियर मूलाधार 
जूलिया मूँगफली 
जूसर मूँदकर 
जूझना मूर्तियों 
जूझते दूरभाष 
डूडल मूल्य 
जूलियन मूलभूत 
पगूँगी मूर्खता 
पड़ूँगा मूषक 
प्रूफ़िंग मूषकों 
पकूँगी नूतन 
पचूँगा नूज
पटूँगी महबूबा 
प्यूमा नजूल 
प्यूपा नजूमी 
प्रभूत नरूला 
पंचभूतों नटूँगा 
रूबरू नमूना 
रूहानी नमूने 
रूद्रपुर म्यूज़िक 
रूडोल्फ़ न्यूज़ 
रूकने पूर्णिमा 
कूबड़ भूकंप 
कूबरों घूमने 
कूगर अरुण 
कूदकर फूलता 
कूपन फूलेंगी 
कूकरों अरूप 
कूटनीति अंगूर 
कबूतर अंगूठी 
क़बूल अबूझ 
कहूँगा अजूबा 
कंगूरे अजूबे 
कंगूरा अडूसा 
कंगारू अडूसों 
कंदूरा अपूर्ण 
नंदूलाल अपूर्व 
कंजूस अकूत 
कंजूसी अचूक 
कपूर अटूट 
कपूरी ख़ुश्बू 
कतूँगी कूलर 
कचूमर बिरजू
कचूर पतलून 
कटूँगा पतलूनों 
कमूँगा पतलू
क़सूर सूरज
क्यूट क्यूबा 

पाँच ओर छह बड़ी ऊ की मात्रा वाले शब्द 

मिलनभूमिअबूझमाड़ 
शरारतपूर्ण भूस्खलन 
दक़ियानूसी अरुणाचल 
श्रद्धापूर्वकख़ूबसूरत 
सहूलियत टूथपेस्ट
मानवतापूर्ण मयूचुअल 
सभ्यतापूर्ण मूल्यांकित 
ऊर्ध्वाधर मूल्यांकन 
ऊदबिलाव मूसलाधार 
शून्यवकाशटूनिशियन 
धूमकेतुओं क़सूरवार 
कंज्यूमर करूणानिधि 
कंप्यूटर कूर्मपुराण 
कंप्यूटिंग रूपांतरण 
सूरजमुखी डूंगरपुर 
सूरजमल रूज़वेल्ट 
आमूलचूल डूंगरगढ़ 
आपूर्तिकर्ता स्टूडेंट्स 
अभूतपूर्व सूक्ष्मजीवों 
अक्टूबर संपूर्णानंद 
अदूरदर्शिता अकूटलिखित 

 बड़ी ‘ऊ’ की मात्रा वाले शब्द से बने कुछ  वाक्यों के उदाहरण 

  • फूल तोड़ना मना है।
  • वह एक जादूगर है।
  • ऊपर पंखा चलता है।
  • अनूप मेरा जूनियर है।
  • यह गाय की पूँछ है।
  • नीलू का क्या क़सूर है।
  • अभी क़ानून अलग है।
  • वह तुझे सूचित कर रहा है।
  • मैं आज घूमने गया था।
  • चीकू एक फल है।
  • वहाँ पर सूचना लगी है।
  • झूठ नहीं बोलना चाहिए।
  • कूड़ा कूड़ेदान में डालें।
  • बच्चे दूध पी रहे हैं।
  • कल वापस ज़रूर आना।

निष्कर्ष:

आशा करता हूँ कि इस लेख से आपको बहुत ही महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त हुई होगी।ओर आप सब बड़ी ‘ऊ’ की मात्रा वाले शब्द के साथ साथ मात्रा किसे कहते हैं, ओर हिंदी परिभाषा में उसका कितना महत्व है वह भी इस लेख से जाना होगा।इस लेख में हमने मात्राओं के बारे में संक्षेप में जानकारी प्रदान की है ताकि आपको हिंदी व्याकरण में कोई परेशानी ना हो।यदि यह लेख आपको अच्छा लगा हो तो comment करके ज़रूर बताएगा।

इस पोस्ट में हमने लगभग सभी हमेशा काम आने वाले बड़ी ‘ऊ’ की मात्रा वाले शब्द लिखे हैं लेकिन यदि आप को ‘ऊ’ की मात्रा वाले शब्द जानते हैं जो यहाँ पर नहीं लिखा गया है।

आपको इन अक्षर के बारे में भी पढ़ना चहिये :